समाचार
केंद्र सरकार के स्थानांतरण से पूर्व कश्मीर से जम्मू भागे 60-70% हिंदू सरकारी कर्मचारी

कश्मीर में हिंदू समुदाय के सरकारी कर्मचारियों की लक्षित हत्याओं के बाद केंद्र सरकार के कदम उठाने से पूर्व ही पता चला है कि हाल ही के सप्ताहों में लगभग 60 से 70 प्रतिशत कर्मचारी जम्मू भाग गए हैं।

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, हिंदू समुदाय के सरकारी कर्मचारियों की आतंकवादियों द्वारा लक्षित हत्याओं को देखने के बाद केंद्र सरकार ने घाटी में प्रधानमंत्री नौकरी योजना के तहत कर्मचारियों को कश्मीर के विभिन्न जिला मुख्यालयों में स्थानांतरित करना शुरू कर दिया है।

कुछ कश्मीरी पंडितों का कहना है कि सुरक्षा की स्थिति 1990 की तुलना में आज भी बदतर है। अनंतनाग जिले के एक कश्मीरी पंडित कर्मचारी रंजन ने कहा, “यह डर 1990 में इतना नहीं था, जब पंडितों का पहला प्रवास हुआ था। डर के कारण हम अपनी जगहों से बाहर नहीं निकल पा रहे हैं। 1990 के दशक में यह स्पष्ट था कि आतंकवादी कौन थे।”

हालाँकि, आज हाइब्रिड आतंकवादियों की वजह से कश्मीर घाटी की स्थितियाँ पूरी तरह से बदल चुकी हैं। कट्टरपंथी नागरिक सामान्य जीवन जीते हुए हमले करते हैं।

उन्होंने दावा किया कि 5,500 पंडितों में से लगभग 60-70 प्रतिशत कश्मीर छोड़ चुके हैं। जगती टेनमेंट कमेटी जम्मू के अध्यक्ष शादी लाल ने पुष्टि की कि 60 से 70 प्रतिशत पंडित कर्मचारी जम्मू पहुँच चुके हैं।