समाचार
जंतर-मंतर पर भड़काऊ नारेबाज़ी को लेकर अश्विनी उपाध्याय सहित छह लोग गिरफ्तार

दिल्ली के जंतर-मंतर पर 8 अगस्त को प्रदर्शन के दौरान कथित भड़काऊ नारेबाज़ी के मामले में पुलिस ने सर्वोच्च न्यायालय के वकील और भाजपा के पूर्व प्रवक्ता अश्विनी उपाध्याय सहित छह लोगों को मंगलवार को पूछताछ के उपरांत गिरफ्तार कर लिया।

आजतक की रिपोर्ट के अनुसार, इसमें अश्विनी के अतिरिक्त विनोद शर्मा, दीपक सिंह, दीपक, विनीत क्रांति, प्रीत सिंह सम्मिलित हैं। प्रीत सिंह सेव इंडिया संस्था के निदेशक हैं, जिसके बैनर तले यह कार्यक्रम आयोजित किया गया था। दिल्ली पुलिस अब पिंकी चौधरी को ढूंढ रही है, जो नारे लगा रहा था।

पूछताछ से पूर्व, अश्विनी उपाध्याय ने कहा था, “हम पुलिस को बताने आए हैं कि कार्यक्रम की आयोजक सेव इंडिया संस्था थी। वह उसे नहीं जानते। कार्यक्रम एक घंटे चला था और जब पुलिस ने रोका तो हम वहाँ से चले गए थे। वीडियो की सत्यता की जाँच होनी चाहिए। अगर वह सही है तो उस पर कार्रवाई होनी चाहिए। मुसलमान संबंधी नारे लगाने वालों से मेरा किसी तरह का संबंध नहीं है।”

उन्होंने कहा कि हमारा दोष बस इतना है कि हम भारत छोड़ो दिवस मनाने गए थे। अंग्रेजों के कानून पर आपत्ति जताने के लिए गए थे। मैंने वीडियो कई बार देखा लेकिन लोगों का पता नहीं लगा। हम जाँच में पूरा सहयोग करेंगे।

डीसीपी दीपक यादव ने कहा, “हमें वीडियो मिला है और इसकी जाँच कर रहे हैं। कानून की प्रासंगिक धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है। वहाँ एकत्र हुए लोगों के पास इसकी अनुमति नहीं थी। हमारे संज्ञान में आया है कि कुछ लोगों ने भड़काऊ और आपत्तिजनक नारे लगाए थे।” बता दें कि वीडियो में एक समूह प्रदर्शन के दौरान भड़काऊ नारेबाज़ी और मुस्लिमों को धमकी देता नज़र आया था।