समाचार
असम-मिजोरम के सीमा विवाद में 6 जवान शहीद व 50 लोग घायल, सीआरपीएफ तैनात

असम और मिजोरम के मध्य लंबे समय से चले आ रहे सीमा विवाद को लेकर माहौल तनावपूर्ण हो गया है। सोमवार (26 जुलाई) को हुए खूनी संघर्ष में असम पुलिस के छह जवान वीरगति को प्राप्त हो गए, जबकि 50 से अधिक लोग घायल हो गए। मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने संघर्ष में शहीद पुलिसकर्मियों को श्रद्धांजलि दी।

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, असम के मंत्री परिमल सुकलाबैद्य ने बताया, “मिजोरम की ओर से की गई गोलीबारी में करीब 80 लोग घायल हुए और छह पुलिसकर्मी शहीद हो गए। हमारी ओर से कोई गोलीबारी नहीं की गई। पड़ोसी राज्य से जलियांवाला बाग की तरह ही गोलीबारी की गई।”

मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने सीमा संषर्घ में घायल हुए पुलिसकर्मियों से भेंट की और उनके बेहतर उपचार के निर्देश दिए। वहीं, मॉनसून सत्र के दौरान संसद में भी यह मामला उठाया गया। कांग्रेस के उपनेता गौरव गोगोई ने संघर्ष पर चर्चा के लिए स्थगन प्रस्ताव दिया। साथ ही पार्टी ने कछार और अन्य क्षेत्र का दौरा करने के लिए सात सदस्यीय समिति का गठन किया।

केंद्रीय रिज़र्व पुलिस बल ने असम व मिजोरम के मध्य लैलापुर-वैरेंगटे विवादित स्थल पर सीआरपीएफ की दो कंपनियों (असम में 119 बटालियन और मिजोरम में 225 बटालियन) को तैनात कर दिया। सीआरपीएफ एडीजी संजीव रंजन ओझा ने बताया, “हमें शाम 4 बजे से शाम 4.30 बजे के मध्य स्थिति नियंत्रण करने का निर्देश दिया गया था।”

दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने हिंसा के लिए एक-दूसरे को ज़िम्मेदार बताया है और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से हस्तक्षेप की मांग की। मिजोरम के गृह मंत्री लालचमलियाना ने आरोप लगाया कि असम पुलिस के करीब 200 जवानों ने जबरदस्ती सीमा पार की।