समाचार
लुधियाना में खालिस्तान समर्थक नारे लिखने पर पन्नू सहित तीन पर मामला, एक गिरफ्तार

लुधियाना पुलिस ने अमेरिका आधारित खालिस्तान समर्थक संगठन सिख फॉर जस्टिस (एसएफजे) के कानूनी सलाहकार गुरपतवंत सिंह पन्नू और दो स्थानीय युवकों के विरुद्ध देहलोन क्षेत्र के गिल गाँव की दीवारों पर खालिस्तान समर्थक नारे लिखने के बाद प्राथमिकी दर्ज की।

दि इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस ने बताया कि जाँच के दौरान ऐसी एक प्राथमिकी 16 सितंबर को मोहाली के राज्य विशेष अभियान प्रकोष्ठ (एसएसओसी) में दर्ज की गई थी। उसमें पाया गया था कि दोराहा गाँव (जिला लुधियाना) के रामपुर निवासी आरोपी गुरविंदर सिंह ने अपने साथी जशन मंगत के साथ इस वर्ष 18-19 अगस्त की रात को गिल गाँव में खालिस्तान समर्थक नारे दीवारों पर लिखे थे।

16 सितंबर को एसएसओसी मोहाली ने गुरविंदर सिंह को राजद्रोह के मामले में बुक किया था। दावा किया गया था कि रामपुर गाँव में उसके घर से एक प्रिंटिंग प्रेस संचालित हो रहा था, जहाँ लाखों खालिस्तान समर्थक पोस्टर, पर्चे और अन्य सामग्री बरामद की गई थीं।

लुधियाना पुलिस और एसएसओसी मोहाली की काउंटर इंटेलिजेंस विंग ने गाँव में छापा मारा था और 17 सितंबर को गुरविंदर को गिरफ्तार कर लिया था। पन्नू का नाम एसएसओसी मोहाली में राजद्रोह और अन्य अपराधों के लिए दर्ज प्राथमिकी में भी था।

लुधियाना शहर के देहलोन थाने में दर्ज ताजा प्राथमिकी में पुलिस ने कहा कि 18 और 19 अगस्त की रात को ‘खालिस्तान जिंदाबाद’, ‘किसाना दा हल खालिस्तान’, ‘पंजाब दा हल खालिस्तान’ और ‘पंजाब विच खालिस्तान’ जैसे नारे गिल गाँव में घरों की दीवारों पर लिखे हुए थे।

प्राथमिकी में कहा गया कि एसएसओसी मोहाली की आरंभिक जाँच में पाया गया कि गिल गाँव में ये नारे भी गुरविंदर सिंह और उसके साथी जशन मंगत ने गुरपतवंत सिंह पन्नू के साथ मिलकर बनाए थे, जो नामित आतंकवादी है।