समाचार
बांग्लादेश व म्यांमार से महिलाओं-बच्चों को लाने वाले गिरोह के तीन आरोपी गिरफ्तार

उत्तर प्रदेश आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) ने झूठे दस्तावेज़ों के आधार पर म्यांमार एवं बांग्लादेश से महिलाओं व बच्‍चों को अवैध रूप से भारत में लाकर बेचने वाले गिरोह के मुखिया सहित तीन लोगों को गिरफ्तार किया। इस संबंध में मंगलवार (27 जुलाई) को उत्तर प्रदेश के एडीजी कानून-व्यवस्था प्रशांत कुमार ने जानकारी दी।

ज़ी न्यूज़ की रिपोर्ट के अनुसार, एडीजी प्रशांत कुमार ने बताया, “आरोपियों को पकड़ने के लिए उप्र एटीएस के 30 अधिकारियों ने 36 घंटे से अधिक का अभियान चलाया। आरोपियों के पास से मोबाइल, आधार कार्ड, पैन कार्ड, बांग्लादेश नागरिकता पहचान पत्र, एटीएम, रेलवे टिकट व यूएनएचसीआर के कार्ड की छायाप्रति, पाँच बांग्लादेशी टका और 24,480 रुपये बरामद हुए।”

उन्होंने बताया, “गिरफ्तार किए गए आरोपियों में बांग्लादेश का मोहम्मद नूर उर्फ नुरूल इस्लाम (गिरोह का मुखिया), म्यांमार का रहमतुल्लाह और शबीउर्रहमान हैं। एटीएस को जानकारी मिली थी कि मोहम्मद नूर कुछ रोहिंग्या व बांग्लादेशी नागरिकों के संग ब्रह्मपुत्र ट्रेन से दिल्ली जा रहा है। इस पर टीम ने पाँचों लोगों को गाज़ियाबाद में ट्रेन से उतारकर पूछताछ की।”

आरोपियों ने बताया कि उनके गिरोह का एक साथी स्टेशन पर उनसे मिलने वाला है। इस पर एटीएस ने उस व्यक्ति को दिल्ली स्टेशन से पकड़ लिया। कुल छह लोगों को एटीएस मुख्यालय लखनऊ लाकर पूछताछ की गई। इसमें म्यांमार की दो लड़कियाँ भी सम्मिलित थीं, जिन्हें लखनऊ के आशा ज्योति केंद्र भेजा गया है।

पूछताछ के बाद एटीएस ने गिरोह के तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद लखनऊ के एटीएस थाने में कई धाराओं में उनके विरुद्ध मामला दर्ज किया गया। गिरोह के एक अन्‍य आरोपी के बारे में पता चला है, जिसकी गिरफ्तारी के लिए टीम लगाई गई है।