समाचार
“मोपला विद्रोह जिहादियों द्वारा हिंदुओं का एक सुनियोजित नरसंहार था”- योगी आदित्यनाथ

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार (25 सितंबर) को कहा कि केरल में 1921 का मोपला विद्रोह राज्य के जिहादी तत्वों द्वारा हिंदुओं का एक सुनियोजित नरसंहार था।

मोपला विद्रोह पर पांचजन्य पत्रिका द्वारा आयोजित एक चर्चा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, “100 वर्ष पूर्व केरल के मोपला में राज्य के जिहादी तत्वों ने हजारों हिंदुओं का नरसंहार किया था। यह योजनाबद्ध तरीके से कई दिनों तक जारी रहा था। एक अनुमान के अनुसार , 10,000 से अधिक हिंदुओं को बेरहमी से मारा गया था। हजारों माताओं और बहनों पर हमला किया गया था। कई मंदिरों को नष्ट कर दिया गया था।”

उन्होंने कहा, “मालाबार में हिंदुओं को सिर्फ इसलिए मारा गया था क्योंकि उन्होंने मतांतरण करवाने से मना किया था। वामपंथी इतिहासकारों ने इस सच्चाई को छिपाया था।”

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, योगी आदित्यनाथ ने कहा, “मालाबार नरसंहार के बारे में सच्चाई सबसे पहले वीर सावरकर के सामने रखी गई थी, जिन्होंने 1924 में एक पुस्तक में इसका विस्तार से वर्णन किया था। भीमराव आंबेडकर ने अपनी पुस्तक पाकिस्तान एंड द पार्टिशन ऑफ इंडिया में मालाबार में मोपलाओं द्वारा हिंदुओं के विरुद्ध किए गए अत्याचार के बारे में बात की। एनी बेसेंट ने भी अपनी किताब द फ्यूचर ऑफ इंडियन पॉलिटिक्स में हिंदुओं पर हो रहे अत्याचारों के बारे में लिखा था।”

उन्होंने आगे कहा, “सच्चाई यह है कि जिन्होंने वामपंथ और छद्म धर्मनिरपेक्षता के चश्मे से इतिहास लिखा, उन्होंने हमेशा तुष्टीकरण की नीति का समर्थन किया। इस प्रयास को वोटबैंक की राजनीति करने वाली पार्टियों का समर्थन मिला। हमारे इतिहास को सही परिप्रेक्ष्य में समझना महत्वपूर्ण है। एक राष्ट्र जो अपने इतिहास को नहीं जानता, वह अपने भूगोल की रक्षा नहीं कर सकता।”