समाचार
घरेलू रक्षा उद्योग द्वारा डिजाइन व विकसित किए जाएँगे 18 सैन्य मंच- रक्षा मंत्रालय

रक्षा मंत्रालय ने शुक्रवार (11 मार्च) को कहा कि निजी क्षेत्र द्वारा उनके डिजाइन और विकास के लिए निर्देशित ऊर्जा हथियारों, नौसैनिक जहाज से मानव रहित हवाई प्रणाली और हल्के वजन के टैंक सहित 18 प्रमुख मंचों की पहचान की गई।

यह कदम घरेलू रक्षा उद्योग को बढ़ावा देने के मंत्रालय के बड़े लक्ष्य का हिस्सा है।

पोत से संचालित होने वाली मानवरहित हवाई प्रणालियों और हल्के टैंक के अतिरिक्त इस पहल के तहत विकसित किए जाने वाले अन्य प्रमुख रक्षा उपकरणों में हाइपरसोनिक ग्लाइड वाहन, मानव रहित स्वायत्त एआई (कृत्रिम बुद्धिमत्ता)-आधारित भूमि रोबोट, 127 मिमी की नौसेना तोप, जहाजों के लिए विद्युत प्रणोदन (इंजन) और हवाई जैमर सम्मिलित हैं।

रक्षा मंत्रालय के अनुसार, निजी क्षेत्र द्वारा रक्षा अधिग्रहण प्रक्रिया (डीएपी) 2020 की ‘मेक-आई’ श्रेणी के तहत 14 मंच विकसित किए जा रहे हैं।

डीएपी 2020 के तहत ‘मेक’ श्रेणी का उद्देश्य भारतीय उद्योग की अधिक भागीदारी को सम्मिलित करके आत्मनिर्भरता प्राप्त करना है। उद्योग द्वारा उपकरण, प्रणालियों, प्रमुख मंचों या उसके उन्नयन डिजाइन व विकास से संबंधित परियोजनाओं को इस श्रेणी के तहत लिया जा सकता है।

रक्षा मंत्रालय मेक-1 उप-श्रेणी के तहत परियोजनाओं हेतु प्रोटोटाइप विकास की कुल लागत का 70 प्रतिशत तक वित्तीय सहायता प्रदान करेगा।

मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि विशेष उद्देश्य वाहन (एसपीवी) मॉडल के तहत दो मंच विकसित करने की योजना है।

कहा गया कि मेक-2 श्रेणी के तहत कई मंचों के लिए एंटी-जैमिंग सिस्टम विकसित किए जा रहे हैं। मेक-2 श्रेणी के तहत परियोजनाओं को सरकार द्वारा सुनिश्चित खरीद के साथ उद्योग द्वारा वित्त पोषित किया जाता है।

मंत्रालय ने कहा कि 18 प्रमुख मंचों में से चार मंचों को पहले ही 3 मार्च को मेक-आई श्रेणी के तहत सैद्धांतिक रूप से अनुमोदन (एआईपी) प्रदान किया जा चुका है।