समाचार
भारत व चीन के मध्य कोर कमांडर स्तर की 13वीं बैठक निष्फल, लद्दाख गतिरोध जारी

भारत और चीन के मध्य रविवार को हुई कोर कमांडर स्तर की 13वीं बैठक का कोई परिणाम नहीं निकला। इस तरह वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर गतिरोध अब भी बरकरार है।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, चुशुल-मोल्दो सीमा पर भारत व चीन के सैन्य अधिकारियों ने चर्चा की। बैठक में दोनों पक्षों के मध्य चर्चा पूर्वी लद्दाख में एलएसी के साथ शेष मुद्दों के समाधान पर केंद्रित थी।

भारत ने चीन को बताया कि एलएसी पर स्थिति चीन द्वारा यथास्थिति को परिवर्तित करने और द्विपक्षीय समझौतों के उल्लंघन के एकतरफा प्रयासों से हुई थी। यह आवश्यक था कि चीनी पक्ष शेष क्षेत्रों में उचित कदम उठाए, ताकि पश्चिमी क्षेत्र में एलएसी के साथ शांति बहाल हो सके।

भारत ने इस पर बल दिया कि शेष क्षेत्रों के ऐसे समाधान से द्विपक्षीय संबंधों में प्रगति की सुविधा होगी। बैठक में भारतीय पक्ष ने शेष क्षेत्रों को हल करने के लिए रचनात्मक सुझाव दिए लेकिन चीनी पक्ष सहमत नहीं था। इस दौरान वह कोई दूरदर्शी सुझाव भी नहीं दे सका।

हालाँकि, दोनों पक्ष संचार और भूमि स्तर पर स्थिरता बनाए रखने पर सहमत हुए हैं। भारत ने कहा कि हमें अपेक्षा है कि चीनी पक्ष द्विपक्षीय संबंधों के समग्र परिप्रेक्ष्य को ध्यान में रखेगा और द्विपक्षीय समझौतों व प्रोटोकॉल का पूर्णतः पालन कर शेष मुद्दों का शीघ्र समाधान निकालेगा।

उधर, चीनी सरकार के समाचार पत्र ग्लोबल टाइम्स ने पीएलए वेस्टर्न थिएटर कमांड के हवाले से आरोप लगाया कि भारत की ओर से अनुचित और अवास्तविक मांगों पर बल दिया गया। साथ ही वार्ता में मुश्किलें भी पैदा कीं।